मकान मालकिन की बहन चोदी

Antarvasna Sex Story 

यह बात है लॉकडाउन के समय की जब मैंने मेरी मकान मालकिन भाभी की बहन को चोदा।

यह मेरी पहली कहानी है अगर कुछ गलती हो जाए तो माफ करिएगा दोस्तो।

मैं स्वभाव से बहुत शर्मीला और शरीफ बनता हूं लेकिन वास्तव में उतना भी शरीफ नहीं हूं बस दिखावा इसलिए कि डर लगता है कहीं चूत के चक्कर में इज्जत न चली जाए. क्योंकि इज्जत से बढ़कर कुछ नहीं है।

इंडियन भाभी पोर्न कहानी शुरू करते हैं दोस्तो!
मकान मालकिन के परिवार में भईया, भाभी, भैया की मम्मी और भाभी के 2 छोटे छोटे बच्चे।
भाभी का नाम अनुपमा है.

लॉकडाउन लगने के 1 दिन पहले भाभी की बहन हर्षिका बेंगलूर से आई थी.
अनुपमा भाभी और उनके परिवार ने कहीं बाहर जाना था तो उन्होंने अपनी बहन हर्षिका को बुलाया था घर की देखभाल के लिए.
उनके आने से पहले अनुपमा भाभी और उनकी फैमिली रिश्तेदार के घर जाने की प्लानिंग कर चुके थे 2 दिन के लिए!

तो हर्षिका के आने के बाद सब लोग चले गए सिर्फ हर्षिका को छोड़कर और दादी को छोड़कर!

जिस दिन ये लोग गए, उसी दिन लॉकडॉउन लग गया.
तो बाकी किरायेदार भी चले गए. मेरे अलावा सिर्फ एक लड़का और रहता था और मैं रहता था।

फिर जब जनता कर्फ्यू के बाद लॉकडाउन बढ़ गया तो भाभी की बहन हर्षिका वहीं फंस कर रह गयी।

हर्षिका और दादी छत पर आकर बैठ जाती थी लेकिन मैं रूम में ही रहता था, मैं बात नहीं करता था और न ही हर्षिका बात करती थी।
ऐसे ही 10 दिन बीत गये.

एक दिन दादी ने मुझे बुलाया और बोली- बेटा जरा राशन ला दे!
तो हर्षिका ने मुझे पैसे और बैग दिया.
मैं उनका सारा सामान ले आया.

इससे उन्हें अच्छा लगा कोई तो है जो उनकी मदद कर सकता है.
और ऊपर से अनुपमा भाभी ने भी हर्षिका को बोला था कि अभी से मंगा लेना कुछ सामान चाहिए तो!

हर्षिका को उमर लगभग 34 साल है और फिगर भी ठीक है. बूब्स बड़े हैं, 34″ की साइज बाकी सब थोड़ा एक्स्ट्रा है।

फिर शाम को हर्षिका ने सूजी का हलवा बनाया.
उसके बाद उन्होंने मुझे बुलाया और बोली- भैया हलवा खा लीजिए!
मैं बोला- नहीं भाभी, ठीक है हलवा मुझे बहुत ज्यादा पसंद नहीं है.

उन्होंने बोला- कोई बात नहीं भैया. खा लीजिए. अच्छा बना है.
मैं बोला- ठीक है भाभी, आप दे दो।

मैं वही बैठ गया और मैंने हलवा खाया.
मैंने हर्षिका और दादी से थोड़ी देर बात की, उसके बाद फिर मैं अपने रूम में आ गया.

ऐसे ही एक एक दिन करके एक 20 दिन बीत गये.

1 दिन अचानक हर्षिका के पेट में दर्द होने लगा.
तो दादी ने बुलाया मुझे और बोली- बेटा, कुछ दवा ले आ, हर्षिका के पेट में दर्द हो रहा है.

मैं दवा लेकर आया, हर्षिका को काफी आराम हुआ.

उसके बाद एक दिन मैं अपने रूम में बैठा पोर्न मूवीज देख रहा था.
कि हर्षिका आई और बोली- आप क्या कर रहे हैं?
मैंने बोला- कुछ नहीं … बस मूवी देख रहां हूँ.

हर्षिका बोली- हम भी देखेंगे मूवी!
मैंने बोला- आपके देखने के लायक नहीं है ये!
हर्षिका ने कहा- ऐसा क्या देख रहे थे?
मैंने कहा- आपको दिखा भी नहीं सकटा!

वो बोली- आपको मेरी कसम है, आपको दिखाना पड़ेगा.
मैं बोला- प्लीज, आपको बुरा लगेगा.

लेकिन वह बोली- नहीं, मुझे बुरा नहीं लगेगा. दिखाओ!
फिर मैंने उनको लैपटॉप की स्क्रीन दिखा दिया.
वो हंसने लगी और शर्मा के नीचे चली गई.

उसके बाद शाम को खाना खाने के बाद हर्षिका छत पर आई और बोली- आप तो काफी रोमांटिक आदमी हैं.
मैंने बोला- नहीं, ऐसा नहीं है. कभी-कभी देख लेता हूं.

उसके बाद बात शुरु हुई.
हर्षिका ने पूछा- आपकी गर्लफ्रेंड है?
मैं बोला- नहीं है.
तो उन्होंने बोला- बना लीजिए, कब तक ऐसे काम चलाएंगे?
“देखते हैं कब बनती है, क्या होता है!” मैंने उत्तर दिया.

उसके बाद से भाभी फिर बोली- अब मैं सोने जा रही हूं, कल बात करते हैं.
मैंने बोला- ठीक है।

अगले दिन हर्षिका किचन में खाना बना रही थी तो मैं नीचे चला गया.
उनसे मैंने पूछा- भाभी, क्या कर रहे हो आप?
उन्होंने बोला- मैं खाना बना रही हूं!
मैं बोला- अच्छा जी, क्या बना रहे हो?
और मैं देखने किचन में चला गया.

तो मेरा हाथ हल्का सा उनके चूतड़ पर लग गया.
मैं बोला- सॉरी भाभी!
तो उन्होंने हंसकर बोला- कोई बात नहीं, ऐसी गलतियां हो जाती हैं!
फिर हम दोनों हंसने लगे.

उसके बाद दो-तीन बार मैंने जानबूझकर और टच किया. उसके बाद भी वे हंसती रही.
तो मुझे लगा कि अब आगे बढ़ना चाहिए.

उसके बाद मैं बोला- भाभी, आपका खाना बन जाए तो आना, लूडो खेलते हैं.
उन्होंने बोला- ठीक है!

उसके बाद हम लूडो खेलने बैठे.

हर्षिका का ब्लाउज बहुत ही डीप गले का था. जब झुक कर बैठी थी तो उनके बूब्स मुझे साफ दिख रहे थे और मैं वही देख रहा था.
तब उन्होंने बोला- आपकी निगाहें कहां हैं? मुझे भी समझ में आ रहा है.

फिर मैंने भी बोल दिया- अगर ऐसी सुंदरता को छोड़कर आदमी लूडो खेले तो फिर वह पागल ही होगा.
हर्षिका बोली- आपने लूडो खेलने के लिए बुलाया या मेरी सुंदरता देखने के लिए?
मैं बोला- अगर लूडो खेलते खेलते सुंदरता दिख जाए तो क्या प्रॉब्लम है।

तो वे कहने लगी- बहुत तेज हैं आप! जितना सीधा मैं आपको समझती थी, उतने सीधे नहीं हैं.
मैं बोला- आज की दुनिया में कौन सीधा? सीधा तो वही है जिसके गुनाह पर्दे में हैं.
उन्होंने बोला- अच्छा जी, क्या बात है!

उसके बाद बैठे-बैठे मैं अपना पैर उनके पैर से टच करने लगा.
तब भी उन्होंने कुछ नहीं बोला, वे मुस्कुराकर लूडो खेलती रही.

उसके बाद मैंने कहा- अब शर्त रखते हैं कि जो लूडो में हारेगा, वो बात मानेगा जीतने वाले की!
हर्षिका ने बोला- ठीक है! जो जीतेगा वह हारने वाले से कुछ भी मांग सकता है!

मैंने कहा- सोच लो भाभी, मैं लूडो में हारता नहीं हूं जल्दी!
उन्होंने बोला- अगर सोचा नहीं होता तो यह शर्त क्यों लगाती!

उसके बाद गेम हर्षिका जीत गई.
मैं बोला- बताइए क्या चाहिए?
तो उन्होंने बोला- आप जीतते तो क्या मांगते?

मैंने बोला- मैं तो आपको मांगता!
उन्होंने बोला- कोई मुझे मांग चुका है और पा लिया, आप लेट हो गए!

तो मैंने कहा- कोई बात नहीं, कुछ दिन के लिए तो आप हो ही सकती हो मेरी!
वह हंसने लगी.

फिर मैं बोला- आप मुझे गले लगाओगी?
वे बोली- इसमें क्या बात है, अब लग जाओ!

मैं हर्षिका के गले लगा गया और खूब जोर से उनको गले लगाया.
उनके बूब्स मेरे सीने पर दब रहे थे.

तभी मैंने उनकी गर्दन पर किस कर लिया.
और हर्षिका भी मुझे छोड़ नहीं रही थी.

तो ऐसे ही करके हमारा गले मिलना 3-4 मिनट तक चला।

इसके बाद वे बोली- अब आप छोड़ दीजिए. और हग करना हो तो फिर से लूडो में जीतो, फिर कर लीजिएगा.

उसके बाद हर्षिका खाना खाने के बाद रात में आई छत पर!
और जैसे ही वो आई, मैंने उनको तुरंत गले लगा लिया और उनके होठों पर किस करने लगा.

उन्होंने बोला- यह क्या कर रहे हो? यह सब यह सब गलत बात है.
लेकिन उनका कोई विरोध नहीं था तो मैं लगातार उनके होंठ चूस रहा था.

और 1 मिनट के बाद ही उन्होंने भी रिस्पांस देना शुरू कर दिया.
हर्षिका भी मुझे बहुत जोर से किस किए जा रही थी और बोल रही थी- कितने दिन से मैं वेट कर रही थी और आपको आज पता चला कितने हिंट दिए!

लेकिन मैं उन्हें खूब जोर किस कर रहा था और बीच बीच में उनके होठों को काट भी रहा था.
उसके बाद उन्होंने बोला- आराम से … मैं कहीं भाग नहीं जा रही हूं. माँ जी सो रही हैं, मैं रात भर यहीं रहूंगी.
मैं बहुत खुश हुआ.

उसके बाद मैं उनको फिर से चूमने लगा.
उनकी गर्दन पर मैंने किस करना शुरू किया.

फिर साड़ी हटाकर मैं उनके ब्लाउज के ऊपर किस करने लगा, उनके बूब्स दबाने लगा और एक हाथ से उनकी कमर को मसल रहा था.
उसके बाद अपना मैंने टीशर्ट निकाल दिया.
फिर से उनके होठों पर मैंने 10 मिनट तक किस किया.

तब उन्होंने बोला- सिर्फ किस ही करते रहोगे या कुछ आगे भी बढ़ोगे?
उसके बाद मैंने हर्षिका का ब्लाउज खोल दिया और उनके बूब्स अपने मुंह में लेकर चूसने लगा.
एक बूब को मैं चूस रहा था और दूसरे को हाथ से दबा रहा था।

तो फिर हर्षिका बोली- अब इसको छोड़ कर दूसरे को चूसो, जितना दूध है सारा पी जाओ.

मैं दोनों को बारी-बारी से चूसने लगा.
चूसते चूसते मैंने हर्षिका को नंगी कर दिया और मैंने भी अपने कपड़े उतार दिए.

फिर मैं हर्षिका को बेड पर लिटा के उनके पैर के अंगूठे को मुंह में लेकर चूसने लगा. फिर पूरी टांग पर किस करते करते मैं उनके होंठों पर आ गया.

होंठ चूसने के बाद फिर मैं बूब्स पर आ गया, उस पे खूब जोर से काटा तो हर्षिका के मुंह से ‘उम्मम् आआ आआह्ह ह नहीईईई’ ऐसी आवाज निकली.

फिर मैं नाभि पर आ गया फिर मैंने दांत से उनकी पैंटी निकाली.
उन्होंने कमर ऊपर करके मेरा साथ दिया.

हर्षिका की पैंटी निकालने के बाद मैंने उनकी चूत पर मुंह लगा दिया और चूत चूसने लगा.
चूत चूसने के साथ ही उनकी सिसकारी निकलने लगी- आआआ आह्ह ऊओ हू बाबू सारा पी जाओ!
मैं हर्षिका की चूत का सारा पानी पी गया.

उसके बाद हर्षिका बोली- अब मेरी बारी है!
हर्षिका मेरा लंड चूसने लगी.
लन्ड जैसे ही उनके मुंह में गया … मानो मुझे जन्नत मिल गई हो!

लेकिन 3 मिनट में ही मेरे लंड ने पानी छोड़ दिया.

फिर हम साथ में थोड़ी देर लेटे रहे.
उसके बाद मैंने उन्हें फिर से किस करना शुरू किया और वह गर्म होना शुरू होने लगी और वो भी मेरा साथ देने लगी.

फिर मैंने हर्षिका की चूत को किस किया और लन्ड उनकी चूत पर रगड़ने लगा.
हर्षिका बोली- जल्दी से डाल दो!
मैंने एक ही झटके में आधा से ज्यादा लन्ड डाल दिया.

उनकी आंखों में आंसू आ गए लेकिन उन्होंने मुझे रोका नहीं.
मैंने पूछा- रूक जाऊं?
लेकिन हर्षिका ने ना में गर्दन हिलाई.

फिर मैं भी धीरे से झटका देना चालू कर दिया.

2 मिनट तक धीरे-धीरे झटका देने के बाद हर्षिका बोली- अब जोर से झटका दो!
फिर लगातार मैंने उनको 5 मिनट तक खूब तेज से चोदा.

इस बीच उनके मुंह से गाली ‘आह्ह मादरचोद भोसडी वाले चोद दे मुझे … आआ आह ऊम्म्ह बाबू’ जो मन में आ रहा था बोल रही थी.
इंडियन भाभी पोर्न गालियाँ देने लगी थी.

फिर मैं बोला- मैं झड़ने वाला हूं!
वो बोली- अभी नहीं!

तो मैंने हर्षिका की चूत से लन्ड निकाल लिया और जुबान से उनकी चूत चाटने लगा और उंगली अंदर डालने लगा.

कुछ देर बाद वो बोली- अब मैं आ रही हूं!
उसके बाद मैंने भी जुबान हटाकर लन्ड चूत में डाल दिया.

फिर हम दोनों साथ में झड़ गए.
उसके बाद भी हर्षिका मुझसे चिपक के लेटी रही, 5 मिनट तक मुझे किस करती रही.

तब हर्षिका बोली- मजा आ गया मेरी जान … आई लव यू!

थोड़ी देर बाद मैंने उनको फिर से किस करना शुरू किया.
उन्होंने किस में रिस्पांस किया लेकिन बोली- अब और चुदाई नहीं होगी. कल रात में जितना मन करेगा उतना चोद लेना. आज के लिए बस हो गया।

फिर मैंने उनकी चूत पानी से साफ की, उनको नहलाया.
हम दोनों ने बाथरूम में भी किस किया.
फिर हम एक दूसरे के गले लग कर सो गए.

5 1 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments